क्राइमदेशमध्यप्रदेश

कांग्रेस नेता संतोष दुबे की हत्या करने वाले अपराधियों को उम्रकैद

इंदौर।  साढ़े 10 साल पहले कांग्रेसी नेता संतोष दुबे की हत्या करने वाले दो हत्यारों को सेशन कोर्ट ने बुधवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। हत्याकांड के तीसरे आरोपित की प्रकरण की सुनवाई के दौरान ही हत्या हो चुकी है, जबकि चौथे के खिलाफ अभियोजन आरोप सिद्ध नहीं कर सका। हत्यारों ने एरोड्रम क्षेत्र के एक प्लॉट को लेकर दुबे को गोलियों से छलनी कर दिया था। उनकी मौके पर ही मौत हो गई थी। वारदात 28 मई 2009 को हुई थी। कांग्रेसी नेता दुबे रोजाना की तरह सुबह करीब 10 बजे रणजीत हनुमान मंदिर के पास तत्कालीन मनी सेंटर के बेसमेंट स्थित बॉडी टेंपल एंड हेल्थ सेंटर पहुंचे थे। इस दौरान आरोपित पिंटू उर्फ नीरज ठाकुर पिता अमरसिंह निवासी दिलीप नगर, अल्पेश चौहान पिता रमेश निवासी कमला नेहरू कॉलोनी साथियों के साथ वहां पहुंचे और दुबे पर गोलियां दाग दी।

लहूलुहान दुबे को तत्काल निजी अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने हत्या के आरोप में पिंटू ठाकुर, अल्पेश चौहान, मनोहर वर्मा और जितेंद्र उर्फ जीतू बाबा पिता मथुरालाल निवासी छत्रीपुरा को आरोपित बनाया था। प्रकरण की सुनवाई के दौरान जितेंद्र उर्फ जीतू की मौत हो गई। अभियोजन की तरफ से विशेष लोक अभियोजक सलीम खान ने पैरवी की। बुधवार को सेशन जज शहाबुद्दीन हाशमी ने आरोपित पिंटू ठाकुर और अल्पेश चौहान को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। साथ ही दो-दो हजार रुपए अर्थदंड भी लगाया। एक आरोपित मनोहर वर्मा के खिलाफ भी साजिश में शामिल होने का आरोप था लेकिन यह सिद्ध नहीं हो सका।

एरोड्रम क्षेत्र के प्लॉट को लेकर था विवाद

एडवोकेट खान ने बताया कि आरोपितों का संतोष दुबे से एरोड्रम क्षेत्र स्थित एक प्लॉट को लेकर विवाद चल रहा था। इसी प्लॉट को लेकर सोमानी हत्याकांड भी हुआ था। प्लॉट की कीमत करोड़ों में थी। आरोपितों ने दुबे की रैकी करने के बाद उसे जिम में घेरा और हत्या कर दी। दुबे हत्याकांड के एक आरोपित जितेंद्र उर्फ जीतू बाबा की भी 2015 में हत्या हो चुकी है।

पुलिसकर्मी था बाद में राजनीति में आया

संतोष दुबे पूर्व में पुलिस में सिपाही थे। बाद में वह राजनीति में आ गए। दुबे पर इससे पहले भी जानलेवा हमला हो चुका था लेकिन उसमें वे बच गए थे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close