देशमध्यप्रदेश

चौबीस दिन बाद लिफ्ट नीचे उतार ली गई, हुई थी 6 लोगों की मौत

महू।Indore Lift Accident : पातालपानी क्षेत्र में बने फार्म हाउस पर अग्रवाल परिवार के साथ हुए हादसे के चौबीस दिन बाद आखिरकार लिफ्ट नीचे उतार ली गई। इसी लिफ्ट के पलटने से कारोबारी पुनीत अग्रवाल सहित परिवार के पांच सदस्य सत्तर फीट ऊंचे टॉवर से आ गिरे थे और इस हादसे में छह लोगों की मौत हो गई थी। शुक्रवार को एफएसएल पार्टी के साथ बड़गौंदा पुलिस के टीआई लिफ्ट उतारने के लिए पहुंचे थे। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि कौन सी तकनीकी खराबी के कारण यह हादसा हुआ था। इसके लिए आगे जांच की जाएगी। कारोबारी पुनीत अग्रवाल के आलीशान फार्महाउस पर बने वॉच टॉवर से लिफ्ट उतार ली गई है। एफएसएल अधिकारी बीएल मंडलोई इस दौरान मौजूद रहे, जिनकी देखरेख में लिफ्ट उतारी गई। इस दौरान लिफ्ट को ऊपर नीचे करने वाले बाहरी रिमोट में खराबी मिली। टॉवर के अंदर बने एक दूसरे नियंत्रक से लिफ्ट नीचे उतारी गई। इस दौरान करीब दो घंटे का समय लगा। फारेंसिंक विशेषज्ञों के मुताबिक हादसे के समय लिफ्ट के असंतुलित होने की कई वजहें हो सकतीं हैं। इसके लिए लिफ्ट लगाने वाले ठेकेदार को बुलाना होगा और उनसे सारी जानकारी समझनी होगी क्योंकि लिफ्ट की स्थिति को देखकर फिलहाल यह स्पष्ट रूप से कह पाना काफी कठिन है कि इसके असंतुलित होने के क्या कारण हैं।

शुक्रवार को लिफ्ट उतारे जाने के समय बड़गौंदा टीआई रॉबर्ट गिरवाल भी

मौजूद रहे। इसके अलावा अग्रवाल परिवार की ओर से भी कुछ लोग यहां पहुंचे थे, लेकिन इनमें से हादसे के समय मौजूद लोगों में से कोई नहीं था। लिफ्टउतारते हुए कुछेक बार रुकी ऐसे में रस्सियों का भी सहारा लेकर उसे

धीरे-धीरे नीचे की ओर खींचा गया। टीम को डर था कि यह अचानक नीचे भी गिर सकती है लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पुलिस ने अहमदाबाद से लिफ्ट लगाने वाले ठेकेदार को बुलाने के लिए कहा है। यहां यह भी बताया गया कि पुनीत अग्रवाल ने अपनी देखरेख में ही लिफ्ट लगवाई थी।

केवल एक हादसा…

एफएसएल अधिकारी बीएल मंडलोई के मुताबिक लिफ्ट को अपने ट्रैक पर बनाए रखने वाले कार्बन ब्रश भी टूट गए हैं। ऐसे में आशंका है कि यह हादसा लिफ्ट पर अधिक वजन के कारण हो सकता है। मंडलोई ने इस बात से साफ इंकार किया है कि इस हादसे के पीछे किसी तरह का गलत इरादा था। यह साफ है कि यह एक तकनीकी खराबी के कारण हुआ है लेकिन कौन सी खराबी थी, यह स्पष्ट नहीं हो सका है। ऐसे में हम अब लिफ्ट के ठेकेदार से मिलना चाहते हैं और उसके बाद ही सही वजह का पता चलेगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close