संस्कारधानी

राजनांदगांव. रेल मंत्री से सतत् संवाद का नतीजा है सिकंदराबाद-रायपुर एक्सप्रेस और 500 करोड़ रू.- संतोष पांडे

सांसद संतोष पाण्डेय ने दिल्ली से लौटते ही बताया कि जारी लोकसभा सत्र सहित पूर्व में रेल मंत्री  पीयूष गोयल व डी.आर. एम. नागपुर से सतत संपर्क कर क्षेत्र में रेल सुविधाए बढ़ाने गाडियों के ठहराव तथा विस्तार के लिए पद ग्रहण करते ही सक्रिय हो गए थे। जिसमे दैनिक रेल यात्री संघ, रेलवे सलाहकार समिति के सदस्यों, रेल कर्मचारी कल्याण समिति व डोंगरगढ़ विकास मंच का भरपूर सहयोग रहा। सांसद पाण्डेय ने बताया की 28 सितम्बर 2019 को डी.आर.एम. नागपुर में संसद सदस्यों की मंडल स्तर की बैठक आयोजित  की थी जिसके लिए 23 सितम्बर के पूर्व सुझाव तथा मांगे मंगाई गई थी। मेरे द्वारा पत्र क्रमांक 1035 दिनांक 9-9-2019 के माध्यम से रेलों के ठहराव, विस्तार तथा डोंगरगढ़ व राजनांदगांव में रेल सुविधा बढ़ाने के सुझाव दिए गए थे। उक्त तिथि के पूर्व मानसून लोकसभ सत्र के जुलाई माह में रेल मंत्री पीयूष गोयल से व्यक्तिगत मुलाकात कर हैदराबाद-रक्सौल गाड़ी नं. 17005-06, नांदेड-संतरागाछी गाड़ी नं. 12767-68, गाँधीधाम-पुरी गाड़ी नं. 12993-94 का राजनांदगांव में ठहराव तथा दुर्ग से छुटने वाली साउथ विहार व सारनाथ एक्सप्रेस का विस्तार गोंदिया तक करने के लिए पत्र दिया था, जिसका जवाबी पत्र मान. रेलमंत्री जी द्वारा भेजी गई है।

वंही डी.आर.एम.नागपुर को भेजे गए पत्र में अंबिकापुर-दुर्ग, अमरकंटक एक्सप्रेस, बेतवा एक्सप्रेस, दुर्ग-नौतनवा, दुर्ग-अजमेर सहित अनेक रेलों के गोंदिया अथवा डोंगरगढ़ तक तथा पश्चिम दिशा से गोंदिया तक आने वाली रेलों के दुर्ग तक विस्तार की मांग रखी गई थी। इसके अतिरिक्त डोंगरगढ़-कवर्धा-कटघोरा हेतु  स्वीकृत लाइन शीघ्र आरम्भ करने के लिए अधिग्रहण का मुआवजा जो लोकसभा क्षेत्र के अछोली-बेलगाँव के कृषको का है के शीघ्र निराकरण का उल्लेख पत्र में किया गया है। सांसद संतोष पाण्डेय के अनुसार हैदराबाद-रक्सौल के स्टॉपेज की मांग के कारण ही सिकंदराबाद-नागपुर 12771-72 को रायपुर तक विस्तार करने के साथ ही राजनांदगांव स्टॉपेज दिया गया है। जिसमे वे मरीजो व विद्यार्थियों को सीधे हैदराबाद तक सुविधा के लिए प्रतिबद्ध थे। मुआवजे व नौकरी के लिए डोंगरगढ़-कटघोरा भूमि अधिग्रहण से प्रभावित 50 से भी अधिक कृषको से उन्होंने मुलाकात की थी। जिनकी परेशानी को उन्होंने जुलाई माह में ही मंत्री समक्ष रखा था। जिसका परिणाम है कि छत्तीसगढ़ रेल परियोजना के लिए मंत्रालय ने 500 करोड़ ₹ की स्वीकृत प्रदान की वरन बिलासपुर से नागपुर के मध्य 160 किमी की गति की सेमी हाईस्पीड ट्रेन भी स्वीकृत की है। राजनांदगांव सहित छत्तीसगढ़ को प्राप्त सुविधाओ के लिए सांसद प्रधानमंत्री मोदी व रेलमंत्री का आभार जताते हुए लंबित मांगो के लिए भी भविष्य मे तत्पर रहने की बात कही है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close