अंबिकापुर

अंबिकापुर जनपद में कांग्रेस का कब्जा, साक्षर भारत की प्रेरक ननकी सिंह बनी अध्यक्ष

अंबिकापुर । संभाग मुख्यालय अंबिकापुर जनपद में एक बार फिर कांग्रेस ने कब्जा जमा लिया है। 25 जनपद सदस्यों में 23 जनपद सदस्य कांग्रेस के पक्ष में थे, इसलिए यहां निर्विरोध अध्यक्ष ननकी सिंह एवं उपाध्यक्ष विष्णु दास चुने गए हैं। यहां भाजपा से जुड़े सदस्य पहुंचे ही नहीं, न ही संगठन का कोई पदाधिकारी नजर आया। एकतरफा कांग्रेस ने यहां कब्जा जमाया है।

एक दिन पूर्व ही बिलासपुर विधायक व कांग्रेस के जनपद अंबिकापुर चुनाव के लिए बनाए गए पर्यवेक्षक शैलेश पांडेय ने समन्वय स्थापित कर इसकी जानकारी पंचायत ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव को दी थी। सुबह ठीक 11 बजे कांग्रेस संगठन की ओर से जनपद क्षेत्र क्रमांक 21 करेंया की ननकी सिंह और जनपद क्षेत्र क्रमांक 13 मेंड्रा के विष्णुदास नामांकन दाखिल करने पहुंचे। निर्धारित समय तक कोई और नहीं पहुंचा और ननकी सिंह को अध्यक्ष घोषित कर दिया गया एवं विष्णुदास उपाध्यक्ष घोषित किए गए। उपाध्यक्ष बने विष्णु दास ने जनपद के पूर्व उपाध्यक्ष संजय राजवाड़े को पराजित किया था। संजय राजवाड़े 2015 में अंबिकापुर जनपद के उपाध्यक्ष निर्वाचित हुए थे।

उन्होंने ढाई साल के बाद अध्यक्ष पूनम सिंह टेकाम के साथ भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी। इससे कांग्रेस की भारी किरकिरी हुई थी। ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस की किरकिरी कराने वाले संजय राजवाड़े को पराजित करने के कारण ही विष्णुदास को जनपद उपाध्यक्ष का ताज सौंपा गया है। अंबिकापुर जनपद के नवनिर्वाचित अध्यक्ष ननकी सिंह साक्षर भारत में प्रेरक का काम कर चुकी हैं। गांव में महिलाओं के साथ ग्रामीणों को जागरूक करने में ननकी सिंह का काफी योगदान है। प्रेरक होने के कारण क्षेत्र में सभी लोग उसे जानते हैं। चुनाव में भी उसको इसी का लाभ मिला था। अध्यक्ष निर्वाचित होने के बाद उत्साहित ननकी सिंह ने कहा कि मेरी जिम्मेदारी अब सिर्फ मेरे गांव नहीं बल्कि अंबिकापुर जनपद क्षेत्र को बेहतर बनाने का है। गांव की सड़कें बेहतर हो, पेयजल की बेहतर व्यवस्था हो, महिलाओं को अच्छा पेंशन मिले, इस दिशा में काम करूंगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव के आशीर्वाद से मैं अध्यक्ष बनी हूं इसलिए उनके मार्गदर्शन में ही मुझे ग्रामीण विकास का काम करना है। उपाध्यक्ष विष्णुदास ने कहा कि उपाध्यक्ष के जिम्मे में जो भी काम होगा उसे पूरी इमानदारी से निभाऊंगा और ग्रामीण क्षेत्र की छोटी-छोटी समस्याओं को प्राथमिकता से दूर करूंगा अंबिकापुर के नवनिर्वाचित जनपद अध्यक्ष ननकी सिंह स्नातक तक की पढ़ाई की हैं। स्नातक की पढ़ाई के बाद शासकीय नौकरी की तलाश थी। इसी बीच साक्षर भारत अभियान प्रेरक बन गई। गांव के लोगों को साक्षर करने का बीड़ा उठाया।

गांव में साक्षरता अभियान के साथ स्वच्छता अभियान में भी अहम योगदान ननकी ने दिया था। पहली बार क्षेत्र से चुनाव लड़ी और कुल 1105 वोट प्राप्त कर अपने निकटतम प्रतिद्वंदी को 450 वोट से पराजित किया। वर्ष 2015 में ठीक इसी तरह 25 जनपद सदस्य में से 24 कांग्रेस के पक्ष में आ गए थे और पूनम सिंह टेकाम एवं संजय राजवाड़े अध्यक्ष-उपाध्यक्ष निर्विरोध निर्वाचित हो गए थे। तब भी भाजपा को प्रस्तावक के लिए लाले पड़ गए थे किंतु ढाई वर्ष में ऐसी परिस्थिति निर्मित हुई कि अध्यक्ष पूनम सिंह टेकाम और उपाध्यक्ष संजय राजवाड़े दोनों भाजपा में शामिल हो गए। इससे कांग्रेस की बड़ी किरकिरी हुई थी। इस बार भी अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों कांग्रेस में नए हैं। कहीं इस बार भी वही स्थिति निर्मित न हो इसका भी खतरा मंडरा रहा है, क्योंकि उपाध्यक्ष के प्रबल दावेदार कांग्रेस नेता संजय सिंह माने जा रहे थे किंतु उन्हें उपाध्यक्ष नहीं बनाया गया। कांग्रेस के अलग-अलग गुट बना चुके नेता आपस में अपना प्रभाव दिखाने के कारण दोनों नए नाम सामने आए हैं और संजय सिंह के नाम पर विचार नहीं किया गया।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close