ग्रामीण क्षेत्रों में कंटेनमेंट जोन में कड़ी निगरानी के लिए दल गठित करने दिए निर्देश

बिना अनुमति के शादी और निर्धारित से अधिक संख्या में उपस्थित होने पर होगी कार्रवाई

कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में समय-सीमा की बैठक में कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं वैक्सीनेशन के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में मरीजों की संख्या में कमी आई है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार केस आ रहे हैं। वहां प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करना तथा निगरानी करने की जरूरत है। इन क्षेत्रों में सर्दी, खांसी, बुखार होने पर भी जानकारी नहीं दी जा रही है और प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया जा रहा है, जिसके कारण संक्रमण फैल रहा है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में कंटेनमेंट जोन में संक्रमण को रोकने एवं निगरानी के लिए प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर कर्मचारियों का दल गठित किया जाए, जो गांव में निगरानी का कार्य करेंगे। इस टीम द्वारा प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने  और मास्क नहीं लगाने वालों पर चालानी कार्रवाई करने तथा कंटेनमेंट जोन का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले त्यौहार अक्षय तृतीया में अधिक शादी होने की संभावना है। कोई भी शादी बिना अनुमति के नहीं होनी चाहिए। ग्रामीण स्तर पर बनाए गए टीम द्वारा इन घरों में निगरानी रखते हुए कार्य करेंगे। शादी में कोरोना प्रोटोकॉल तथा निर्धारित संख्या से अधिक व्यक्ति होने पर कार्रवाई करेंगे। उन्होंने कहा कि जिन गांवों से शादी की अनुमति के लिए अधिक आवेदन आए हैं वहां मेडिकल टीम भेजकर सैम्पलिंग लें। इसके साथ ही अंत्योष्टि एवं अन्य समारोह में भी निर्धारित संख्या में लोग उपस्थित होने चाहिए। कोविड-19 संक्रमण से सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए आगामी त्यौहारों में सभी समाज प्रमुखों द्वारा लोगों को घर में रहकर त्यौहार मनाने की अपील करने कहा।
कलेक्टर श्री वर्मा ने कहा कि शासन द्वारा निर्धारित अनुपात में सभी वर्गों का वैक्सीनेशन करें। फ्रंटलाइन वर्कर कोरोना में लगातार अपनी सेवाएं दे रहे हैं, वे प्राथमिकता से वैक्सीनेशन जरूर कराएं। जब स्वयं सुरक्षित रहेंगे तभी घर-परिवार सुरक्षित रहेगा। जिन्हें वैक्सीन का दूसरा डोज लगना है उन्हें भी समय पर वैक्सीनेशन करें। वैक्सीन लगाने वाले लोगों का रिकार्ड पंजी में दुरूस्त होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कोविड केयर सेंटर में खाने, पेयजल, साफ-सफाई, सेनेटाईजिंग तथा अन्य व्यवस्था सुनिश्चित होनी चाहए। नियमित रूप से मरीजों के स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए कार्य करें। गंभीर समस्या होने मरीज को हॉस्पिटल रेफर करें। मितानिन होम आईसोलेशन में रहने वाले मरीजों से संपर्क कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी जरूर लें। उन्होंने कहा कि वनांचल क्षेत्र में तेन्दूपत्ता संग्रहण का कार्य किया जा रहा है। यहां विक्रय के समय कोरोना प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करें। किसानों द्वारा आने वाले खरीफ फसल के लिए खाद, बीज का उठाव करने बैंकों द्वारा लोन लिया जाता है। इन स्थानों पर सोशल डिस्टेसिंग का पालन होना चाहिए। बैंकों में भीड़ न हो इसके लिए प्रतिदिन निश्चित संख्या में ग्रामवार टोकन निर्धारित करें। पीडीएस दुकानों में राशन लेने वालों के लिए सोशल डिस्टेसिंग का चिन्ह बनाएं तथा सोसायटी मैनेजर को प्रोटोकॉल का पालन करने निर्देशित करें। शासन की अनेक योजना वृद्धा पेशन योजना, निराश्रित पेशन योजना तथा अन्य योजनाओं से मिलने वाले राशि का आहरण बैंक सखी एवं बैंकिंग प्रतिनिधि के माध्यम से किया जाए। इससे बैंकों में अनावश्यक भीड़ नहीं होगी।
कलेक्टर श्री वर्मा ने कहा कि निर्माण संबंधी सभी कार्य प्रारंभ किया जाए। नये निर्माण कार्य के लिए टेंडर जारी कर कार्य शुरू करें। जो अधूरे निर्माण कार्य हैं बरसात के पहले पूरा कर लिया जाए। जिन धान उपार्जन केन्द्रों में धान का उठाव नहीं हुआ है वहां धान को बारिश से बचाने के लिए सभी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उपार्जन केन्द्रों के लिए बनाए गए नोडल अधिकारी केन्द्रों में जाकर धान का भौतिक सत्यापन करें। उन्होंने कहा कि जिन क्षेत्रों में अतिवृष्टि से फसल की क्षति हुई है उनका आकलन करें तथा आरबीसी 6-4 के तहत बिजली गिरने से हुए नुकसान की क्षति राशि देने के लिए प्रकरण तैयार करें। किसानों द्वारा खाद का उठाव किया जा रहा है। उन्हें गोधन न्याय योजना के तहत निर्माण वर्मी कम्पोस्ट क्रय करने के लिए प्रेरित करें।
सीईओ जिला पंचायत श्री अजीत वसंत ने कहा कि जिन पंचायतों में कोरोना के केस नहीं है वहां मनरेगा के कार्य प्रारंभ किया जाए। सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए मजदूरों को अधिक से अधिक मनरेगा में कार्य के लिए प्रेरित करें। स्कूल, आंगनबाड़ी केन्द्रों में रनिंग वॉटर के कार्य कराएं। कोविड केयर सेंटर में भर्ती होने वाले और डिस्चार्ज होने वाले मरीजों की जानकारी रखें। इस अवसर पर सीईओ जिला पंचायत श्री अजीत वसंत, वनमंडलाधिकारी खैरागढ़ श्री संजय यादव, अपर कलेक्टर श्री सीएल मारकण्डेय, नगर निगम आयुक्त श्री आशुतोष चतुर्वेदी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी, एसडीएम राजनांदगांव श्री मुकेश रावटे सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। वीडियो कान्फ्रेस के जरिए सभी एसडीएम, जनपद सीईओ, सीएमओ एवं बीएमओ जुड़े रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *