कांकेतरा के नाले में नहाते वक्त बच्चे का पैर फिसला, 3 घंटे रेस्क्यू कर निकाला शव

पिछले पांच दिन से हो रही बारिश अब आफत बनती जा रही है। जिले में 24 घंटे में 64 मिमी. रिकॉर्ड बारिश दर्ज हुई है। भारी बारिश को देखते हुए जलाशयों से 30 हजार क्यूसेक से अधिक पानी छोड़ा गया है। इसके चलते जिले के कई हिस्सों में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। छोटी पुल-पुलिया डूब चुकी है। वनांचल में कई गांवों का संपर्क भी टूट गया है।

इधर शहर से लगे ग्राम कांकेतरा में बुधवार को दर्दनाक हादसा भी हो गया। बरसाती नाले में दोस्तों के साथ नहा रहे 12 साल के बच्चे का पैर फिसल गया। वह नाले के पथरीले हिस्से में जा गिरा। इसके बाद लापता हो गया। ग्रामीणों की सूचना पर गोताखोर सहित पुलिस प्रशासन की रेस्क्यू टीम गांव पहुंची। नाले में करीब तीन घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चला। तब जाकर बच्चे के शव को बाहर निकाला गया। ग्रामीणों ने बताया कि 12 वर्षीय अमित ढीमर अपने दोस्तों के साथ गौठान के पीछे मौजूद नाले में सुबह 8 बजे नहाने गया था, तभी तेज बहाव के चलत के चलते वह फिसलकर गहरे हिस्से में जा गिरा। हादसे में बच्चे के सिर में भी गंभीर चोट आई थी। रेस्क्यू टीम ने जब बच्चे को बाहर निकाला तो उसकी मौत हो चुकी थी। जलाशयों में जलभराव को देखते हुए सभी 8 प्रमुख जलाशयों से पानी छोड़ने का काम जारी है। बीते 24 घंटे में इन जलाशयों से 30 हजार क्यूसेक से अधिक पानी छोड़ा गया है। मोंगरा बैराज से ही 16 हजार क्यूसेक से ज्यादा पानी छोड़ा जा चुके हैं।

कोलिहापुरी में पुल डूबा, 4 दिन से गांव में ही फंसे लोग
इधर डोंगरगढ़ ब्लॉक के कोलिहापुरी में ग्रामीणों की समस्या कम नहीं हो रही है। कोलिहापुरी जाने वाले मार्ग में बना पुल चार दिनों से डूबा हुआ है। पुल के ऊपर से तेज बहाव के साथ पानी मौजूद है। इसके चलते ग्रामीण गांव में ही फंसे हुए है। गांव के लोग जरुरी काम के लिए भी बाहर नहीं आ पा रहा है। बुधवार को ग्रामीणों ने पुल में कचरा फंसे होने की आशंका से जेसीबी से कचरा निकलवाने का प्रयास भी किया। लेकिन शाम तक स्थिति जस की तस बनी हुई थी। इधर सूखानाला से साढ़े छह और घुमरिया नाला से 600 क्यूसेक से ज्यादा पानी छोड़ा गया है।

ऐसी लापरवाही जानलेवा… तेज बहाव के बीच जोखिम उठाकर मछली पकड़ने में जुटे
जलस्तर लगातार बढ़ने से मोहारा का छोटा पुल भी डूब गया है। पचरी पर बनी सीढ़ियां भी डूबी हुई है। पानी का बहाव भी तेज है। इस बीच मछली पकड़ने के लिए लोग जानलेवा जोखिम उठा रहा है। बुधवार को कुछ लोग इस तरह मोहारा एनीकट में मछली पकड़ते दिखे। पुलिस की समझाइश के बाद भी लोग मनमानी कर रहे हैं।

रिकॉर्ड 64 मिमी बरसे बादल, रेड अलर्ट जारी
जिले में इस पूरे सीजन की रिकॉर्ड बारिश बीते 24 घंटे में दर्ज हुई है। बीते 24 घंटे में 64 मिमी. बारिश हुई है। सबसे अधिक बारिश डोंगरगांव ब्लॉक में 86 मिमी. हुई है। वहीं मोहला में 82 और छुईखदान 80 मिमी. बरसात हुई है। इन हिस्सों में जन जीवन सबसे अधिक प्रभावित हुआ है । वहीं जिले के दूसरे ब्लॉकों में भी बीते 24 घंटे से रुक रुककर तेज बारिश हो रही है। हालांकि बुधवार को दोपहर बाद बारिश थमी रही, वहीं आसमान भी साफ रहा। लेकिन शाम होते होते काले बादल छाने लगे थे। बीते 15 दिनों में लगभग 200 मिमी. बारिश दर्ज की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *