रायपुर एनआईटी में लगा सोलर प्लांट, बचेगा बिजली खर्च

तकनीकी प्रगति के साथ आगे बढ़ने और ऊर्जा के नवीकरणीय स्रोत की ओर बढ़ने के लिए एनआईटी रायपुर ने 490 kWp का सोलर पावर प्लांट का उद्घाटन किया गया। बिजली की जरूरतों को कम करने के उद्देश्य से सोलर पावर प्लांट लगाया गया है। मेसर्स ज्योतिकिरण एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड द्वारा संस्थान भवन में सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित किया, जो की सनसोर्स एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड की एक सहायक कंपनी है।

सोलर प्लांट की बिजली से एनआईटी रायपुर पर किसी भी वित्तीय प्रभाव के बिना, बिजली संयंत्र का रखरखाव और संचालन और उत्पन्न बिजली को 25 साल तक एनआईटी रायपुर को बेचेगा तथा उसके बाद सिस्टम को एनआईटी रायपुर में मुफ्त में स्थानांतरित कर देगा। जिससे आगे भी इसका उपयोग किया जा सकेगा।

परियोजना का उद्घाटन निदेशक डा. एएम रावाणी एनआईटी रायपुर के स्थापना दिवस के अवसर पर किया और बिजली उत्पादन चालू हुआ। उद्घाटन समारोह में डा. आरिफ खान, डा. एन लोंधे एवं अन्य वरिष्ठ लोग मौजूद रहे। यह परियोजना न केवल सौर उत्पादन के माध्यम से परिसर को बिजली की बचत प्रदान करती है, बल्कि सौर पीवी रिन्यूएबल एनर्जी सिस्टम्स पर शोध कार्य करने के लिए पर्याप्त डेटा और जानकारी भी प्रदान करती है।

फिलहाल सभी मौजूदा इमारतों की छतों का उपयोग सौर पैनल और बिजली पैदा करने वाले उपकरणों को स्थापित करने के लिए किया जा रहा है। ग्रिड कनेक्टेड रूफटाप सोलर पावर प्लांट की स्थापना आरएससीओ मोड में होगी, जिससे एनआईटी रायपुर की ओर से बिना किसी वित्तीय झुकाव के सार्वजनिक धन की पर्याप्त राशि का खर्च कम होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *