छत्तीसगढ़राजनांदगांव जिला

डोंगरगढ़ : शहर और दो राज्यों को जोड़ने वाली अंतर्राज्यीय सड़क का काम पड़ा है अधूरा, जल्द काम चालू नहीं हुआ तो जोगी कांग्रेस करेगी आंदोलन : नवीन अग्रवाल


राजनांदगांव। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश कोर कमेटी सदस्य व प्रदेश महासचिव नवीन अग्रवाल के नेतृत्व में युवा छात्र संगठन जिला अध्यक्ष अलकेश उजवने, संजय माहुले, राकेश बल्हारे ने अनुविभागीय अधिकारी को कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा।
नवीन अग्रवाल ने बताया कि शहर की सड़क का निर्माण कार्य लंबे समय से अधूरें सड़क निर्माण को बंद रखा गया है, जिसकी वजह से आवाजाही में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। अधूरें सड़क का काम भी शुरू हो चुका है, लेकिन निर्माण एजेंसी को लोक निर्माण विभाग के अफसरों ने खुली छूट दे रखी है। नियमित मॉनिटरिंग नहीं होने की वजह से ठेकेदार सीधे तौर पर गुणवत्ता से समझौता कर रहा है। विभागीय निगरानी होने की वजह से ठेकेदार को मनमानी करने के लिए छूट मिली हुई है। थाना चौक से लेकर खरकाटोला तक पहले तो पुरानें सड़क के डामर की ऊपर परत का उखाड़कर सालों काम बंद कर दिया गया था। अब फंड रिलीज होने बाद खरकाटोला से सीधे डामर बिछाने काम शुरू कर दिया, जबकि खुदाई करने के बाद बेस डालकर डामर बिछाने का काम किया जाना था। लेकिन अंतरराज्यीय मार्ग को फिर से भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ाया जा रहा है। ठेकेदार ने आनन-फानन में खरकाटोला से डामरीकरण का कार्य शुरू कर दिया, जबकि पूर्व बोरतलाव तक हुए निर्माण में पूरी खुदाई करने के बाद मुरूम का बेस डालकर रोलर चलाकर मजबूत किया गया था। बजरी डालने के बाद ही डामरीकरण की गई थी, लेकिन 4 किमी निर्माण में इन मापदंडों का पालन ही नहीं किया गया। इससे निर्माण में गुणवत्ता नहीं आएगी और भारी वाहनों के दबाव में नई सड़क टूट जाएगी। पीडब्ल्यूडी के जिम्मेदार भी निर्माणाधीन मार्ग में गुणवत्ता से समझौता होता देख चुप निर्माण एजेंसी को खुली छूट मिल गई।
बाक्स…
बैठे हुए हैं जिम्मेदार, मौके पर नहीं कर रहे मॉनिटरिंग
लोक निर्माण विभाग के जिम्मेदार एसडीओ व इंजीनियर निर्माणाधीन सड़क का मौका-मुआयना नहीं कर रहे है। केवल दफतर में बैठक बिल की फाइल आगे बढ़ाई जा रही है। जबकि विभाग की जिम्मेदारी है कि मापदंड के अनुरूप मॉनीटरिंग करके निर्माण को पूरा कराया जाएं, लेकिन अफसर भी भ्रष्टाचार में शामिल होकर ठेकेदार को संरक्षण दे रहे है। लंबे समय बाद संघर्ष के बाद सड़क निर्माण होनें जा रहा है। इसके बाद भी गुणवत्ता से समझौता किया जा रहा है।
बाक्स…
भारी वाहनों का दबाव नहीं झेल पाएगी सड़क
छत्तीसगढ़ को महाराष्ट्र से जोड़ने वालें इस सड़क में भारी वाहनों की आवाजाही 24 घंटे रहती है। इसी वजह से ही प्रदेश में कांग्रेस सरक बनतें ही गुणवत्ता लाने के लिए निर्माण की लागत बढ़ाने अनुशंसा की गई, लेकिन लागत राशि बढ़ने के बाद भी गुणवत्ता के साथ निर्माण नहीं रिहा है। बिना खुदाई किए बगैर ही डामरीकरण करने से मजबूत सड़क नहीं बन पाएगी और भारी वाहनों का दबाव सड़क नहीं झेल पाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button