देश

फेसबुक पर देशभक्त हिंदू सचिन, बातों में सांप्रदायिकता, जानें आरोपी के बारे में सबकुछ

पश्चिमी यूपी में तेज हो चुकी चुनावी सरगर्मी के बीच ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी की कार पर गुरुवार शाम करीब साढ़े पांच बजे फायरिंग की गई। घटना उस वक्त हुई जब पिलखुवा के पास छिजारसी टोल प्लाजा से उनका काफिला गुजर रहा था। दो युवकों ने कार में नीचे की तरफ गोलियां चलाईं। इस दौरान समर्थकों ने एक हमलावर को पकड़ लिया और टोलकर्मियों को सौंप दिया। उसके पास से पिस्तौल बरामद हुई है। बाद में पुलिस ने दबिश देकर दूसरे को भी पकड़ लिया। घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। पुलिस ने आरोपियों के नाम सचिन और शुभम बताए हैं। उन्होंने पूछताछ में बताया कि ओवैसी के नफरत भरे भाषण से वे नाराज थे, इसलिए हमला किया। सचिन ने पूछताछ में बताया कि शुभम से उसकी दोस्ती फेसबुक पर हुई। इसके बाद फोन पर बातें होने लगीं। फोन पर ही हमले की साजिश तैयार की। दोस्तों से पिस्तौल ली।  हमले से पहले दोनों मिले और कार से टोल प्लाजा पर पहुंच गए।

आरोपी सचिन

हापुड़ के छिजारसी टोल पर असदुद्दीन ओवैसी की कार पर गोली चलाने वाला युवक बादलपुर थाना क्षेत्र के गांव दुरियाई का रहने वाला सचिन शर्मा है। वहीं, दूसरा युवक भी सचिन का साथी है। 

आरोपी सचिन

घटना की सूचना मिलने के बाद आरोपी के घर पहुंचकर पुलिस ने परिजनों से पूछताछ भी की। बादलपुर पुलिस का कहना है कि प्राथमिक जांच में पता चला है कि ओवैसी के बयानों से सचिन नाराज था। उसका देशभक्त सचिन हिंदू के नाम से फेसबुक प्रोफाइल है।

गोली चलाता हुआ आरोपी

सचिन अक्सर सांप्रदायिक बातें पोस्ट करता था। उसके कई भाजपा नेताओं के साथ फोटो भी हैं। वह नेताओं को जन्मदिन पर बधाई देने के पोस्ट भी करता है। सचिन अविवाहित है, पिता विनोद कंपनियों में श्रमिक उपलब्ध कराने का काम करते हैं।

हमलावर

गांव में सचिन के ओवैसी की कार पर हमला करने की अधिकांश लोगों को जानकारी नहीं है। हालांकि, कुछ ग्रामीणों ने पुलिस के गांव आने और उसके परिजनों को पूछताछ के लिए ले जाने की जानकारी दी है।

कार पर गोलियों के निशान

शाहीन बाग का वीडियो किया था शेयर
सचिन ने जेवर के गोपाल शर्मा के दिल्ली में शाहीन बाग में गोली चलाने का वीडियो भी फेसबुक पर शेयर किया था। पड़ोसी गांव से रास्ते के विवाद में भी उसका नाम सामने आया था।

गोपाल शर्मा

बादलपुर थाना पुलिस का कहना है कि उन्होंने हापुड़ पुलिस से जानकारी मिलने पर इस संबंध में पड़ताल की तो पता चला है कि सचिन पिता के साथ काम करता है और घर से काम पर जाने की कहकर गया था। दूसरे युवक के संबंध में उन्हें कोई जानकारी नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button