क्राइम

मेजर की पत्नी के हत्याकांड में खुलासा, प्रेम संबंध में एक अन्य सैन्य अधिकारी पर हत्या का शक

दिल्ली: मेजर की पत्नी की हत्याकांड में बड़ा खुलासा हुआ है। ऐसा सच सामने आया है, जिसे सुनकर हर कोई हैरान है, आप भी जानिए, पुलिस जांच में मेजर की पत्नी का दूसरे मेजर से प्रेम प्रसंग होने की बात सामने आ रही है, हालांकि पुलिस ने अभी पुष्टि नहीं की है। पुलिस से पूछताछ में मेजर अमित द्विवेदी ने पत्नी का एक दूसरे मेजर से संबंध होने का शक जताया है। पूछताछ में अमित ने बताया कि दिल्ली आने से पहले दीमापुर में उनकी पोस्टिंग थी, यहां पर उनकी पत्नी की नजदीकियां एक दूसरे मेजर से बढ़ गई थीं। दिल्ली आने के बाद भी उनकी पत्नी की उस मेजर से बातचीत होती थी। फिलहाल पुलिस ने उस मेजर की तलाश शुरू कर दी है। 
आपको बता दें कि शनिवार को पश्चिम दिल्ली के कैंट मेट्रो स्टेशन के पास शनिवार को दिनदहाड़े मेजर की पत्नी की गला रेतकर हत्या कर दी गई। महिला के कपड़े  बुरी तरह से फटे हुए थे। जांच में पता चला कि हत्या के बाद शव पर गाड़ी भी चढ़ाई गई थी। शाम के समय घटना से अनजान महिला के पति मेजर अमित द्विवेदी पत्नी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचे। उन्होंने मृतका की पहचान पत्नी शैलजा द्विवेदी (32) के रूप में की। शुरुआती जांच के बाद पुलिस अधिकारी लूटपाट, झपटमारी और यौन शोषण की बात से इनकार कर रहे हैं। उनका कहना है कि हत्यारा परिवार का करीबी है। दिल्ली कैंट मेट्रो स्टेशन के पास गला रेतकर मेजर की पत्नी की हत्या करने के मामले में बदमाशों ने मारने के बाद मृतका के शव पर कार भी चढ़ाई थी। पुलिस को घटनास्थल से टायरों के निशान मिले, जिसमें खून लगा था। 
हत्या करने के बाद जब शव के ऊपर से कार चढ़ाई गई तो उसके निशान कुछ मीटर तक बन गए। हाईप्रोफाइल हत्याकांड को देखते हुए वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने एफएसएल की टीम के अलावा क्राइम टीम को मौके के मुआयने के लिए बुलाया। टीम ने बेहद बारीकी से घटनास्थल से साक्ष्य जुटाए। हालांकि मामले में वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हत्यारे के बेहद करीब होने की बात कर रहे हैं। उनका कहना है कि हत्यारा शैलजा के परिवार का करीबी है। 
वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि शनिवार को मेजर का चालक सरकारी गाड़ी से शैलजा को लेकर आरआर अस्पताल पहुंचा था। उसने शैलजा को वहां गेट पर उतारा, इसके बाद चालक चला गया। इधर शैलजा अस्पताल में अंदर नहीं गई, बल्कि वह किसी दूसरी कार में सवार होकर चली गई। इधर, कुछ देर बाद मेजर का चालक शैलजा को लेने अस्पताल वापस पहुंचा तो उसे पता चला कि वह अस्पताल में अंदर गई ही नही थी। ड्राइवर ने मेजर को सूचना दी। इधर, शैलजा का फोन भी बंद आने लगा। मेजर ने पत्नी की तलाश शुरू कर दी, लेकिन लगातार उसका फोन बंद आता रहा। शाम 4.30 बजे मेजर अमित थाने पहुंचे और पत्नी की गुमशुदगी दर्ज कराई। इधर पुलिस ने दोपहर 1.28 बजे ही शैलजा का शव बरामद हो गया था।
पहचान होने के बाद पुलिस ने छानबीन शुरू की। पुलिस अधिकारियों का कहना था कि शव के हालात देखकर लगता है कि उसके साथ खूब गुत्थम-गुत्था हुई थी। हत्यारे ने बेहद बेरहमी से उसकी हत्या कर दी थी। सूत्रों का तो यहां तक दावा है कि तीन लोगों के साथ उसे कार में देखा गया था। अब यह तीन लोग कौन थे और जिस जगह शैलजा की हत्या हुई, वह वहां उनके साथ क्यों आई, इसकी जांच की जा रही है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि उसका यौन शोषण नहीं हुआ। ऐसे में सवाल उठता है कि उसके कपड़े क्यों फाड़े गए। वहीं हत्या करने के बाद भी उसके शव पर कार क्यों चढ़ाई गई। आज पुलिस इन सब सवालों से पर्दा उठा सकती है। 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close