छत्तीसगढ़राजनांदगांव जिला

डोंगरगढ़ -: धर्मनगरी डोंगरगढ़ में अस्पताल पर सियासत

डोंगरगढ़. राजनांदगांव जिले के धर्मनगरी डोंगरगढ़ वासियों की बहु प्रतीक्षित मांग सर्व सुविधायुक्त सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण शहर के बाहर ग्राम अछोली क्षेत्र में कांग्रेस के शासन में हुआ । पूर्व में यह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शहर के मध्य संचालित था । जिसकी बिल्डिंग जर्जर होने के कारण इस अस्पताल को नवीन भवन निर्माण के बाद अछोली क्षेत्र मे शुरू किया गया है ।

पूरा मामला इस प्रकार हैं शहर के मध्य शासकीय अस्पताल की पुरानी बिल्डिंग में ही शुचरु रूप से संचालित था जिसे कांग्रेस के शासन काल में शहर से 5 किलो मीटर दूर ग्राम अछोली में नवीन बिल्डिंग का निर्माण कर पुराने अस्पताल को शिफ्ट कर दिया गया जिसमें शहर की जनता एवम् आसपास के ग्रामीणों को भारी दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा है अस्पताल को शहर से दूर ना हो इसके लिए भा जा पा मण्डल अमित जैन ने पूर्व में धरना प्रदर्शन कर रोकने का प्रयास भी किया था । लेकिन शासन ने किसी की ना सुनी और अस्पताल को नई बिल्डिंग में शिफ्ट कर दिया। वही अब विधानसभा चुनाव संपन्न होने के बाद डोंगरगढ़ विधानसभा क्षेत्र की नवनिर्वाचित विधायक हर्षिता बघेल ने शहर के मध्य जर्जर हो चुके पुराने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के भवन में सीटी डिस्पेंसरी खोले जाने की बात कही है। जबकि यह अस्पताल शिफ्ट पूर्व कांग्रेस विधायक ने ही किया है। उस समय नवनिर्वाचित विधायिका हर्षिता स्वामी बघेल जिला पंचायत सदस्य भी थी पर कोई विरोध दर्ज नही कराई अब सत्ता से जाने के बाद जनता को गुमराह करने पुराने बिल्डिंग में फिर से ओपीडी खोले जाने की बात कह रही हैं जबकि डोंगरगढ़ के इस शासकीय अस्पताल में आज भी डॉक्टर्स एवम् अन्य स्टाफ की कमी है उस ओर ध्यान केन्द्रित ना करते हुए एक नया फॉर्मूला के तहत पुराने बिल्डिंग में ही ओपीडी खोलने की बात कह रही है।

अस्पताल के मुद्दे को लेकर सियासत का दौर शुरू होने लगी है भाजपा कांग्रेस पर हमलावर दिखाई दे रही है।भाजपा शहर अध्यक्ष अमित जैन ने पूरे मामले को लेकर कहा की भाजपा के शासन काल में शहर के मध्य संचालित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के जर्जर बिल्डिंग को डिस्मेंटल कर उसके नवनिर्माण का प्रपोजल भेजा गया था परंतु कांग्रेस के शासनकाल में इसे शहर के बाहर ले जाया गया उस समय विधायक हर्षिता बघेल जो की तात्कालिक जिला पंचायत सदस्य भी थी उन्होंने इस बात का विरोध क्यों नहीं किया…. भाजपा उस समय भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को शहर के बाहर ले जाने का विरोध कर रही थी क्या।

advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button