मध्य प्रदेश

पिता और दो बेटे-बहू मिलकर चलाते हैं तीन फर्म

भोपाल

भोपाल के एक ही परिवार के 5 दवा कारोबारियों के खिलाफ चिकित्सा उपकरण खरीदी में  धांधली करने को लेकर  ईओडब्ल्यू ने एफआईआर दर्ज की है। दरअसल यह खुलासा अनूपपुर  में साल 2019 से 2022 के बीच खरीदे गए उपकरणों की जांच में हुआ है। मामले की जांच आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो ने की थी। जांच रिपोर्ट के आधार पर तत्कालीन सीएमएण्डएचओ सहित कई अफसरों के खिलाफ केस दर्ज किया है। साथ ही उपकरणों की सप्लाई करने वाली 3 फर्म के 5 संचालकों को भी आरोपी बनाया गया है। तीनों फर्म एक ही परिवार के लोग अलग-अलग नाम से संचालित करते हैं।

मनमानी दामों में खरीदे गए उपकरण
जांच में सामने आया कि अनूपपुर में 10 हजार 999 रुपए में मिलने वाले जंबो साइज के आॅक्सीजन सिलेंडर को 16 हजार 900 रुपए में और 68 रुपए कीमत वाली आरएफ किट 4156 रुपए में खरीदी गई है। यहां 14 उपकरणों की खरीदी मप्र पब्लिक हेल्थ कापोर्रेशन ने अप्रूव्ड रेट से कई गुना ज्यादा कीमत पर खरीदी गई अनूपपुर में साल 2019 से 2022 के बीच खरीदे गए उपकरणों की जांच ईओडब्ल्यू ने की थी। जिसमें यह घोटाला सामने आया है। अनूपपुर जिला अस्पताल और दूसरी स्वास्थ्य संस्थाओं में मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराने उपकरणों की खरीदी की गई।

इसके लिए प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना के तहत 7 करोड़ 11 लाख रुपए से ज्यादा का बजट दिया था। जिसकी खरीदी तत्कालीन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीडी सोनवानी, सिविल सर्जन डॉ. एसआर परस्ते और बीडी सिंह ने 778 प्रकार के उपकरणों की खरीदी के ऑर्डर भोपाल के गौतम नगर में रहने वाली एक फैमिली की 3 फर्मों को दिया गया। बीडी सिंह की अब मौत हो चुकी है। वहीं, एक उपकरण की खरीदी कटनी की फर्म से की गई। जिसमें मध्य प्रदेश पब्लिक हेल्थ कापोर्रेशन भोपाल  के अप्रूव्ड रेट  को दरकिनार किया गया, और 61 गुना महंगी दर पर मशीनों की खरीदी की गई। उपकरण खरीदी के इस मामले में 33 लाख रुपए से ज्यादा का फायदा संबंधित फर्मों को हुआ है।

भोपाल के ये कारोबरी भी हैं आरोपी
भोपाल के भी पांच लोगों को आरोपी बनाया गया हैं। ये एक ही परिवार के लोग हैं। इसमें सुनैना तिवारी, जितेंद्र तिवारी,अनुजा तिवारी, शैलेंद्र तिवारी,  महेश बाबू शर्मा आरोपी बनाए गए हैं ये सभी गौतम नगर में रहते हैं और तीन फर्म का संचालन करते हैं।

ये बने आरोपी
डॉ . बीडी सोनवानी, तत्कालीन मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अनूपपुर, रामखेलावन पटेल, तत्कालीन स्टोर कीपर, कार्यालय उटऌड, अनुपपुर , महेश कुमार दीक्षित, तत्कालीन लेखापाल कार्यालय अनूपपुर, डॉ. एसआर परस्ते, तत्कालीन सिविल सर्जन एवं अनूपपुर मप्र एवं अध्यक्ष क्रय समिति जिला चिकित्सालय, अनूपपुर, डॉ. बीपी शुक्ला मेडिकल विशेषज्ञ एवं बीएमओ  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, जैतहरी जिला अनूपपुर एवं सदस्य क्रय समिति, डॉ. डीके कोरी, निश्चेतना विशेषज्ञ जिला चिकित्सालय अनूपपुर एवं सदस्य क्रय समिति, डॉ. मोहन सिंह, श्याम मेडिकल एवं सदस्य क्रय समिति, अनुपपुर इन्हें आरोपी बनाया गया हैं।

advertisement
advertisement
advertisement
advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button