मध्य प्रदेश

भोपाल AIIMS में पहली बार शुरु हुई एलबीसी तकनीक, शुरुआती दौर में ही पकड़ आएगा सर्वाइकल कैंसर

भोपाल
 चिकित्सा सुविधाओं के मामलों में मध्य प्रदेश तेजी से आगे जा रहा है। अब राजधानी भोपाल को ऐसी मशीन की सौगात मिली है, जिससे सर्वाइकल कैंसर की जांच आसान हो पाएगी। अच्छी बात यह है कि इस मशीन की मदद से शुरुआती दौर में ही सर्वाइकल कैंसर का पता लग सकेगा।

बता दें कि यह मशीन भोपाल के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में इंस्टाल कर दी गई है। एम्स भोपाल के पैथोलॉजी एवं लैब मेडिसिन विभाग द्वारा इसे शुरु किया है। सर्वाइकल कैंसर की जांच के लिए लिक्विड बेस्ड साइटोलॉजी (एलबीसी) पैप टेस्ट सेवा को शुरु किया गया है। इस सुविधा को शुरु करते हुए एम्स भोपाल के एग्जिक्यूटिव निदेशक डॉ. अजय सिंह ने एनबीटी ऑनलाइन को बताया कि एलबीसी पैप टेस्ट सेवा सुविधा के शुरू होने से एमपी में महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर की जांच करने में काफी मदद मिलेगी और शुरुआती दौर में ही इसका पता लगाया जा सकेगा।

बड़ी समस्या बन गया है सर्वाइकल कैंसर

देश में सर्वाइकल कैंसर एक सबसे बड़ी समस्या के रूप में उभरा है। एलबीसी तकनीक के द्वारा सर्वाइकल कैंसर की जांच में कम समय लगता है। साथ ही इसकी सटीकता अधिक होती है। इस सुविधा से 25 से 65 साल की महिलाओं को खास लाभ मिलेगा।

प्रदेश का पहला संस्थान बना एम्स

बता दें कि मध्य प्रदेश के किसी अन्य संस्थान में यह मशीन नहीं है। एम्स भोपाल पूरे मध्य प्रदेश में पहला सरकारी संस्थान है, जहां इस तरह की सुविधा उपलब्ध होगी।

शीघ्र मिल पाएगा इलाज

पैथोलॉजी एवं लैब मेडिसिन विभाग की प्रमुख डॉक्टर वैशाली वाल्के ने बताया की इस मशीन की सुविधा शुरू होने से अब सर्वाइकल कैंसर के मामलों को जल्दी पहचान कर उनका शीघ्र इलाज सुनिश्चित किया जा सकेगा। अभी तक सर्वाइकल कैंसर की जांच पारम्परिक पैप टेस्ट के द्वारा की जाती है। लेकिन अब एलबीसी पैप टेस्ट सेवा से जांच हो सकेगी।

advertisement
advertisement
advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button