मध्य प्रदेश

CBSE Result: भोपाल की नैना बुर्रा ने 10वीं में मारी बाजी, तनय निगम ने 12वीं कक्षा में किया टॉप

भोपाल
भोपाल में पिछले साल के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए लड़कों ने सीबीएसई कक्षा 10वीं और 12वीं में शीर्ष स्थान हासिल किया है। 12वीं कक्षा में तनय निगम ने 99 प्रतिशत अंक हासिल किए। जबकि प्राकाम्य सिद्ध बालोत और सायली देश पांडे ने 10वीं कक्षा में 99.4 प्रतिशत अंक हासिल किए। दोनों छात्र डीपीएस, नीलबड़ से हैं।

वहीँ भोपाल की नैना बुर्रा ने दसवी क्लास सी बी एस ई सेंट जोसेफ कॉन्वेंट ईदगाह हिल्स में अध्यनरत रहकर 96% अर्जित किये है  उनकी मम्मी कविता बुर्रा घर से कोचिंग चलाती है और अपनी मम्मी की मार्गदर्शन से रोज नैना ने 8-8 घंटे सेल्फ स्टडी करके  96% हासिल करे है नैना का सपना है आगे ऐ आई के माध्यम से साइबर  क्राइम के लिए काम करने की इच्छा है।

बता दें कि इस साल सीबीएसई भोपाल क्षेत्र में 83.54 प्रतिशत छात्रों ने 12वीं कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण की। कुल मिलाकर 82,037 छात्रों ने परीक्षा के लिए पंजीकरण कराया था, जबकि 81,343 छात्र उपस्थित हुए। 12वीं कक्षा में लड़कियों का उत्तीर्ण प्रतिशत लड़कों से अधिक था। कुल मिलाकर, 85.74 प्रतिशत लड़कियों ने परीक्षा उत्तीर्ण की। जबकि 81.73 प्रतिशत लड़के 12वीं कक्षा में उत्तीर्ण होने में सफल रहे।

10वीं कक्षा के नतीजों में 91.24 प्रतिशत छात्रों ने परीक्षा उत्तीर्ण की। इस कक्षा में भी लड़कियों ने लड़कों से बेहतर प्रदर्शन किया। कुल मिलाकर, 92.39 छात्रों ने परीक्षा उत्तीर्ण की, जबकि 90.33 प्रतिशत लड़के परीक्षा उत्तीर्ण करने में सफल रहे। 12वीं कक्षा में मानविकी के छात्रों ने सभी शीर्ष स्थान हासिल किए। तनय पीएफ डीपीएस ने 99 प्रतिशत के साथ शहर में शीर्ष स्थान हासिल किया। सेंट जेवियर्स स्कूल की तौशिका जैन 98.6 प्रतिशत के साथ दूसरे स्थान पर रहीं। कार्मेल कॉन्वेंट बीएचईएल की सुहानी यादव और देवांशी श्रोत्रिय ने 98 प्रतिशत अंक हासिल कर मानविकी से तीसरा स्थान हासिल किया।

कक्षा 10 में प्रकायमा सिद्घ 99.4 प्रतिशत के साथ प्रथम स्थान पर रहे। डीपीएस की एक अन्य छात्रा सैली देश पांडे ने 99.4 प्रतिशत अंक हासिल किए। एसपीएस की श्रुतिका जैन गांधी नगर ने 98.6 प्रतिशत अंक हासिल किए, जबकि कार्मेल कॉन्वेंट, बीएचईएल की सृष्टि गर्ग ने 98.6 प्रतिशत अंक हासिल किए।
विज्ञापन

इससे पहले इस सप्ताह की शुरुआत में परिणाम को लेकर चर्चा जोर पकड़ने लगी थी। एक फर्जी सर्कुलर में परिणाम घोषित होने की तारीख 11 मई होने का दावा किया गया था। लेकिन सीबीएसई ने उस खबर को खारिज कर दिया और कहा कि पत्र वास्तविक नहीं है। क्योंकि वे कभी भी पहले से तारीखें जारी नहीं करते हैं।

बोर्ड ने यह भी कहा कि वह अस्वस्थ प्रतिस्पर्धा से बचने के लिए अपने छात्रों को प्रथम, द्वितीय या तृतीय श्रेणी प्रदान कर रहा है। हालांकि, सीबीएसई ने उन 0.1 प्रतिशत छात्रों को योग्यता प्रमाणपत्र जारी किए, जिन्होंने विषयों में उच्चतम अंक प्राप्त किए हैं। रिजल्ट घोषित होने के बाद वेबसाइट धीमी होने से छात्रों को परेशानी का सामना करना पड़ा। छात्र अपना रिजल्ट देखने के लिए दौड़ते नजर आए।

advertisement
advertisement
advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button