मध्य प्रदेश

थीम रोड पर अम्मा महाराज की छत्री के पास माधवी राजे का अंतिम संस्कार, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दी मुखाग्नि

ग्वालियर

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की मां माधवी राजे सिंधिया का बुधवार सुबह दिल्ली में निधन हो गया था। 75 वर्षीय माधवी राजे लंबे समय से बीमार थीं। बीते दो माह से वह दिल्ली के एम्स में ही भर्ती थीं। अंतिम संस्कार गुरुवार को ग्वालियर में हुआ।

उनकी पार्थिव देह गुरुवार दोपहर से अंतिम दर्शनों के लिए रानी महल में रखी गई थी। कटोराताल स्थित थीम रोड स्थित अम्मा महाराज की छतरी में राजमाता विजयाराजे सिंधिया व स्व. माधव राव सिंधिया की समाधि के पास ही शाम को ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उन्हें मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डा. मोहन यादव सहित कई बड़े नेता शामिल रहे। विमानतल से विशेष वाहन से पार्थिव देह को रानी महल ले जाते समय केंद्रीय मंत्री ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया अपनी मां के साथ बैठे रहे और उन्‍हें ही देखते रहे।

माधवीराजे सिंधिया की पार्थिव देह रानी महल पहुंचने के बाद लोग उनके अंतिम दर्शनों के लिए उमड पड़े। सभी लोग लाइन से माधवी राजे के दर्शन कर उन्‍हें पुष्‍पांजलि अर्पित कर रहे थे। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की मां माधवी राजे सिंधिया का बुधवार सुबह नौ बजे दिल्ली में निधन हो गया। 75 वर्षीय माधवी राजे लंबे समय से बीमार थीं। बीते दो माह से वह दिल्ली के एम्स में ही भर्ती थीं और यहीं सुबह 9 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। अंतिम संस्कार गुरुवार को कटोराताल के पास स्थित छत्री परिसर में किया जाएगा। बुधवार को ज्योतिरादित्य सिंधिया के दिल्ली स्थित निवास पर पार्थिव देह रखी गई, जहां पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान सहित कई लोगों ने श्रद्धांजलि दी।

शिवराज सिंह ने कहा कि वह सक्रिय राजनीति में नहीं थीं लेकिन ग्वालियर की जनता की चिंता उन्होंने हमेशा की। सीएम डा. मोहन यादव, पूर्व सीएम कमल नाथ और दिग्विजय सिंह सहित कई विशिष्ट लोगों ने शोक जताया है। गुरुवार को पार्थिव देह नई दिल्ली से ग्वालियर आएगी। दोपहर 12.30 से 2.30 बजे तक अंतिम दर्शनों के लिए महल में रखी जाएगी। अम्मा महाराज की छत्री में राजमाता विजयाराजे सिंधिया व स्व. माधव राव सिंधिया की समाधि के पास शाम पांच बजे अंतिम संस्कार होगा। माधवी राजे पूर्व मंत्री यशोधरा राजे और राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया की भाभी थीं।

माधवी राजे सिंधिया के कोरोना काल से ही बीमार होने की खबरें आ रहीं थीं। पिछले दो माह से उनकी हालत ज्यादा बिगड़ गई थी। उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था।पांच मई को उनकी हालत अत्याधिक बिगड़ने की सूचना मिलने पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया मुंगावली में चुनावी सभा के बाद दिल्ली रवाना हो गये थे। उनके पुत्र महान आर्यमान अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों को रद्द कर दिल्ली पहुंच गये थे। माधवी राजे सिंधिया की बेटी चित्रांगदा भी जम्मू-कश्मीर से दिल्ली पहुंच गईं थीं।प्रियदर्शनी राजे सिंधिया तीन मई को चुनाव प्रचार छोड़कर शिवपुरी से दिल्ली से निकल गईं थीं।

advertisement
advertisement
advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button