छत्तीसगढ़रायपुर जिला

CG : स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने सरकार से तंबाकू नियंत्रण कानूनों को मजबूत करने का किया आग्रह

रायपुर। सारी दुनिया 24 मार्च को जब विश्व टीबी दिवस मना रही है, भारत टीबी (तपेदिक) के खिलाफ लड़ाई में सबसे आगे खड़ा है। जन स्वास्थ्य के लिए यह देश में लंबे समय से चुनौती बनी हुई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की वैश्विक टीबी रिपोर्ट 2023 के अनुसार, 2022 में भारत में दुनिया में सबसे अधिक तपेदिक (टीबी) के मामले सामने आए, जो वैश्विक बोझ का 27% है, भारत में 2.8 मिलियन (28.2 लाख) दर्ज किए गए। 2022 में टीबी के मामले।

2025 तक टीबी को खत्म करने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी दृष्टि इस मुद्दे को व्यापक तौर पर संबोधित करने की सरकार की प्रतिबद्धता दर्शाती है। राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम (एनटीईपी) और टीबी मुक्त भारत अभियान जैसी पहल से, भारत इस लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा तेजी लाने के लिए अथक प्रयास कर रहा है।

भारत में टीबी का बोझ बढ़ाने वाला एक महत्वपूर्ण कारक तपेदिक और तंबाकू के उपयोग के बीच संबंध है। वैश्विक वयस्क तंबाकू सर्वेक्षण के अनुसार, भारत में बड़ी संख्या में लोग तंबाकू का सेवन करते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि भारत तम्बाकू का उपयोग करने वालों की संख्या (268 मिलियन या भारत के सभी वयस्कों का 28.6%) दुनिया भर में दूसरी सबसे बड़ी है। हर साल इनमें से कम-से-कम 1.2 मिलियन तम्बाकू से संबंधित बीमारियों के कारण मर जाते हैं। भारत में लगभग 27% कैंसर तम्बाकू के उपयोग के कारण होते हैं। तंबाकू के उपयोग से होने वाली बीमारियों की कुल प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष लागत 182,000 करोड़ रुपये थी, जो भारत की जीडीपी का लगभग 1.8% है। तम्बाकू का धुंआ (सिगरेट, बीड़ी) पीने वालों में टीबी विकसित होने और बीमारी के अधिक गंभीर रूपों का अनुभव होने का खतरा अधिक होता है। इसके अतिरिक्त, दूसरों के धूम्रपान के संपर्क में आने से टीबी के परिणाम खराब हो सकते हैं और उपचार के प्रभावी होने में बाधा आ सकती है।

वालंट्री हेल्थ एसोसिएशन ऑफ इंडिया की मुख्य कार्यकारी भावना मुखोपाध्याय ने कहा, “इस दोहरे खतरे से निपटने के लिए, तत्काल आवश्यकता है कि तंबाकू नियंत्रण कानूनों को मजबूत किया जाये और तंबाकू उत्पादों पर कराधान बढ़ाया जाये। सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान पर प्रतिबंध और विज्ञापन पर रोक सहित कड़े तंबाकू नियंत्रण उपायों को लागू करके, भारत टीबी पर तंबाकू के उपयोग के प्रभाव को कम कर सकता है। इससे इस कारण होने वाली मौतें भी कम होंगी। इसके अलावा, व्यक्तियों को तंबाकू का उपयोग छोड़ने तथा टीबी और अन्य संबंधित स्वास्थ्य जटिलताओं के जोखिम को कम करने में सहायता करने के लिए तंबाकू छोड़ने में मदद करने वाली सेवाओं को तत्काल बढ़ाने की आवश्यकता है।”

तपेदिक, जो मुख्य रूप से माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस के कारण होता है, भारत में एक जटिल चुनौती है, जहां लगभग एक चौथाई आबादी संक्रमित है और इस बीमारी के बढ़ने का खतरा है। हाल के शोध ने तंबाकू के सेवन और टीबी के बीच संबंध पर प्रकाश डाला है, जिसमें बताया गया है कि कैसे धूम्रपान से टीबी के अनुबंध, विकास और मृत्यु का खतरा काफी बढ़ जाता है।

डॉ. राकेश गुप्ता, अध्यक्ष, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, रायपुर ने कहा, “अध्ययनों से संकेत मिलता है कि तंबाकू का धुंआ (सिगरेट बीड़ी) पीने वालों में धूम्रपान न करने वालों की तुलना में पलमोनरी (फुफ्फुसीय तपेदिक) विकसित होने की आशंका 2.5 गुना अधिक होती है, जबकि धूम्रपान करने वाले टीबी रोगियों का उपचार के दौरान मृत्यु होने का खतरा दोगुना होता है। धूम्रपान न केवल टीबी के प्रति संवेदनशीलता को बढ़ाता है, बल्कि उपचार की प्रभावशीलता को भी कम करता है और पुनरावृत्ति की संभावना को बढ़ाता है, इससे रोगियों और स्वास्थ्य देखभाल प्रणालियों पर समान रूप से बोझ बढ़ जाता है”।

डॉ. राकेश गुप्ता ने आगे कहा, “इसके अलावा,भारत में तम्बाकू का सेवन करने वालों की संख्या अच्छी खासी है और अनुमान है कि 10% आबादी तम्बाकू का उपयोग करती है। यह भारत में टीबी से निपटने के प्रयासों को और जटिल बनाती है। धूम्रपान छोड़कर, व्यक्ति खुद को और अपने समुदाय को टीबी के विनाशकारी प्रभाव से बचा सकते हैं” ।

भारत सरकार द्वारा सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (सीओटीपीए) और राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम (एनटीसीपी) जैसी सराहनीय पहलों के बावजूद, तंबाकू की खपत पर प्रभावी ढंग से अंकुश लगाने के लिए इसे मजबूती से लागू करने और साक्ष्य-आधारित हस्तक्षेप जरूरी हैं। इसके अलावा, तम्बाकू-टीबी कनेक्शन को कुशलतापूर्वक संबोधित करने के लिए स्वास्थ्य क्षेत्रों के बीच सहयोग के महत्व पर आम सहमति बढ़ रही है। इसके लिए मौजूदा टीबी संरचना का उपयोग प्रभावी ढंग से निवारण हस्तक्षेप प्रदान करने के लिए किया जा रहा है। तम्बाकू धूम्रपान और तपेदिक के बीच अंतर्निहित संबंध भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर चुनौती है। तंबाकू के उपयोग से निपटने और टीबी की घटनाओं, प्रगति और मृत्यु दर पर इसके प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए निवारक और उपचार दोनों रणनीतियों को शामिल करते हुए समन्वित प्रयास आवश्यक हैं।

advertisement
advertisement
advertisement
advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button