मध्य प्रदेश

मध्य भारत में शुरू हुआ हीट वेव का कहर, कई शहरों में 41 डिग्री के पार पहुंचा तापमान

भोपाल
 मध्य प्रदेश में गर्मी लोगों को बेहाल करने लगी है। लगातार पारे में बढ़ोतरी देखने को मिल रहा है। प्रदेश का अधिकतम तापमान बढ़कर 43 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने को बेताब दिख रहा है। गुरुवार को सारे रिकॉर्ड तोड़ते हुए अधिकतम तापमान 42.5 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। यही नहीं 14 जिलों में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के ऊपर रहा। इस मौसम में यह पहला रिकॉर्ड है जब इतनी अधिक गर्मी देखने को मिली है। प्रदेश में सबसे गर्म तापमान दमोह में 42.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ।

नर्मदापुरम में 41.3, गुना में 41.6, सागर में 41.6 डिग्री सेल्सियस अधिकतम तापमान दर्ज हुआ। प्रदेश के प्रमुख जिलों का तापमान देखा जाए तो भोपाल में 40.5, ग्वालियर में 39.8, इंदौर में 39, रतलाम में 40.8, शिवपुरी में 41, जबलपुर में 40, सतना में 40.3, टीकमगढ़ में 41 डिग्री सेल्सियस अधिकतम तापमान दर्ज हुआ। न्यूनतम तापमान में भी बड़ा उछाल देखने को मिला है। प्रदेश के अधिकांश जिलों का न्यूनतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से ऊपर रहा। टीकमगढ़ में तो 27.5 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान दर्ज हुआ।
भोपाल में भी टूटा रिकॉर्ड

राजधानी भोपाल जिले की बात करें तो गुरुवार को दिन का तापमान 40.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। पिछले कुछ साल के मार्च महीने के आंकड़ों को देखा जाए तो चौथी बार मार्च में भोपाल सबसे गर्म रहा। आपको बता दें कि 31 मार्च 2017 को 40.8 डिग्री, 31 मार्च 2019 को 40.8 डिग्री जबकि 30 मार्च 2021 को 41 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा था। इसके साथ ही मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में भी तापमान में वृद्धि का अनुमान जताया है।
लू चलेगी

शुक्रवार को प्रदेश के कुछ जिलों में लू चलने की चेतावनी भी जारी की है। रतलाम और दमोह जिले में कहीं-कहीं लू का प्रकोप देखा जा सकता है। जबकि गुना जिले में गर्म रात हो सकती है। मौसम वैज्ञानिकों ने दृष्टिकोण जारी करते हुए बताया है कि आने वाले समय में अधिकतम तापमान में हल्की गिरावट देखी जा सकती है, लेकिन न्यूनतम तापमान में क्रमिक रूप से वृद्धि हो सकती है।

पानी गिरने के आसार

मौसम विशेषज्ञ पी के साहा ने एनबीटी ऑनलाइन को बताया कि कुछ शहरों के मौसम में शनिवार से बदलाव देखने को मिल सकता है। 30 मार्च को अशोकनगर, शिवपुरी, ग्वालियर, दतिया, सिंगरौली, सीधी, रीवा, मऊगंज, सतना, डिंडोरी, जबलपुर, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, बालाघाट, पन्ना, दमोह, सागर, छतरपुर, टीकमगढ़, निवाड़ी, मैहर, पांर्ढुना, विदिशा, रायसेन, राजगढ़, बैतूल, गुना में हल्की बारिश हो सकती है। वहीं, 31 मार्च को मऊगंज, सतना, शहडोल, उमरिया, डिंडोरी, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, बालाघाट, पन्ना, छतरपुर, मैहर, पांर्ढुना, सिंगरौली, सीधी, रीवा में बूंदाबांदी होने के आसार नजर आ रहे हैं।

भोपाल: 40 डिसे से ऊपर जा रहा पारा

राजधानी भोपाल में मार्च माह में अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच जा रहा है। गुरुवार को यह 40.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से चार डिग्री सेल्सियस अधिक रहा।

ग्वालियर: 40 डिसे तक पहुंच रहा पारा

ग्वालियर में इस साल मार्च का आखिरी सप्ताह पिछले कुछ सालों की तरह फिर गर्म है। पिछले कुछ सालों में शहर का तापमान मार्च आखिरी सप्ताह में 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जा रहा है। मौसम विभाग के अनुसार, मार्च माह का अभी तक का सबसे गर्म दिन 31 मार्च 2022 को था, जब तापमान 41.8 डिग्री सेल्सियस तक गया था। वर्ष 2017 में तापमान 41.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। हालांकि गत वर्ष 2023 के मार्च माह में अधिकतम तापमान 36.1 डिग्री सेल्सियस ही दर्ज हुआ था।
जबलपुर: 41 डिग्री पर पहुंच गया था पारा

गुरुवार को सीजन का सबसे गर्म दिन के रूप में दर्ज किया गया। दिन का पारा सामान्य से चार डिग्री बढ़कर 40 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। तेज धूप और दक्षिण-पश्चिमी गर्म हवा भी लोगों को परेशान करती रही। मौसम विभाग के रिकार्ड में दर्ज पिछले 10 वर्षों के आंकड़ों पर गौर करें तो बेमौसम बरसात और ओलावृष्टि से मार्च में अधिकतम तापमान 40 डिग्री के नीचे ही बना रहा।

सात वर्ष पूर्व 31 मार्च 2017 को जरूर दिन का अधिकतम तापमान 41 .2 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया था। इसके पहले जरूर मार्च में तापमान 36 से 39 डिग्री के इर्द-गिर्द रहा। 2019 में एक बार तापमान 40.9 डिग्री, फिर 2021 और 2022 में मार्च के अंतिम दिनों में तापमान 40.5 और 40.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया था। वहीं न्यूनतम तापमान की बात करें तो न्यूनतम तापमान 11 से 13 डिग्री के बीच ही रहा, पर वर्तमान में न्यूनतम तापमान भी लगातार बढ़ रहा है। गुरुवार को अधिकतम तापमान 40.0 डिग्री और न्यूनतम 21.8 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया।
मालवा-निमाड़
झाबुआ: अधिकतम तापमान 41 डिसे

जिले में इन दिनों अधिकतम तापमान 41 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच रहा है। इसके साथ ही रात का तापमान 22 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने लगा है। मौसम विभाग के अनुसार, आगामी दिनों में और अधिक गर्मी बढ़ने की संभावना है। पिछले पांच वर्षों में मार्च के अंतिम दिनों में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के आसपास ही बना हुआ था।

खरगोन: पांच साल का रिकार्ड टूटा

जिले में तापमान ने मार्च माह में पांच साल का रिकार्ड तोड़ दिया है। तापमान 27 मार्च को 39.2 और 28 मार्च को 38.6 डिग्री सेल्सियस रहा। पांच साल पहले 19 मार्च 2019 को अधिकतम तापमान 37.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। इस साल अक्टूबर में औसत से ज्यादा वर्षा हुई। इसके बाद नवंबर से फरवरी तक वर्षा व अतिवृष्टि भी होती रही। इसके बावजूद मार्च में ही तापमान 39 डिग्री सेल्सियस पार हो गया। जिले में तीन जगह सिंचाई योजना शुरू हो चुकी है। इसके बावजूद तापमान बढ़ोतरी हो रही है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार, आगामी अप्रैल व मई में तापमान 48 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा हो सकता है।

इंदौर: पारा 39 डिग्री सेल्सियस पहुंचा

गुरुवार को इंदौर में अधिकतम तापमान 39 डिग्री सेल्सियस रहा, जो सामान्य से 02 डिग्री अधिक था। इंदौर में तीन साल पहले वर्ष 2021 में अधिकतम तापमान 40.2 डिग्री सेल्सियस पहुंचा था। इस वजह से तीन साल बाद गुरुवार को अधिकतम तापमान अपने सर्वोच्च स्तर पर रहा।

पिछले 10 वर्षो में मार्च माह में इंदौर का दिन का तापमान

वर्ष अधिकतम तापमान

    2014 37.1 डिग्री सेल्सियस
    2015 37.5 डिग्री सेल्सियस
    2016 39.0 डिग्री सेल्सियस
    2017 40.6 डिग्री सेल्सियस
    2018 38.8 डिग्री सेल्सियस
    2019 40.3 डिग्री सेल्सियस
    2020 36.4 डिग्री सेल्सियस
    2021 40.2 डिग्री सेल्सियस
    2022 38.7 डिग्री सेल्सियस
    2023 35.3 डिग्री सेल्सियस

इंदौर में मार्च में रिकार्ड- सबसे अधिक तापमान- 28 मार्च 1892 को 41.1 डिग्री

advertisement
advertisement
advertisement
advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button