प्रदेशरायपुर जिला

रायपुर – मानवीय संवेदनाओं की भावना से जरूरतमंद लोगों के हित में काम करना प्रेरणादायक: सुश्री उइके

मानवीय संवेदनाओं की भावना के साथ समाज के जरूरतमंद लोगों के हित में काम करने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं को समाज में हमेशा सम्मान मिलता है। व्यक्तियों और संस्थाओं के नाम इतिहास में अमर हो जाते है मानव सेवा के लिए कार्य करने वाले लोगों को सब याद करते हैं। यह बड़ा पुण्य का काम होता है। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने आज यहां पद्मश्री गोविंदराम निर्मलकर ऑडिटोरियम, राजनांदगांव में दिव्यांगजनों के कल्याणार्थ शिक्षण-प्रशिक्षण सह पुनर्वास संस्थान ‘अभिलाषा’ के रजत जयंती वर्ष समारोह में इस आशय के यह विचार व्यक्त किए।
    राज्यपाल ने कहा कि अभिलाषा संस्था द्वारा मानवीय संवेदनाओं से प्रेरित होकर कार्य किया जा रहा है। संस्था के संस्थापक एवं अध्यक्ष श्री अब्दुल्ला युसूफ और उनके सहयोगियों का यह कार्य प्रेरणा दायक है। श्री युसूफ जैसे व्यक्ति समाज में बहुत कम होते हैं। इसके लिए वे बधाई के पात्र हंै। इस संस्था के जरिए दिव्यांग बच्चों को आत्मनिर्भर बनने और उनकी जिंदगी को नई दिशा देने की पहल की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस संस्था के प्रयासों से आज अनेक युवा शासकीय सेवाओं में भी हैं, खेल तथा सांस्कृतिक गतिविधियों में अपने हुनर का प्रदर्शन कर संस्था का नाम रौशन कर रहे हैं।
    राज्यपाल ने कहा कि दिव्यांगजनों में बैठी हीन भावना को दूर कर सामान्य व्यक्ति के रूप में जीवनयापन करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करने की जरूरत होती है। दुनिया भर में दिव्यांगजनों को विभिन्न क्षेत्रों में प्राप्त उपलब्धियों के बारे में संस्था के बच्चों को बताया जाना चाहिए। दिव्यांग बच्चों में कमाल की क्षमता होती है। अपनी क्षमता की बदौलत वे भी जीवन में ऊचांईयां प्राप्त कर सकते हैं। राज्यपाल ने अभिलाषा संस्था को आर्थिक और अन्य रूप में सहयोग करने वालों की भी तारीफ करने हुए कहा कि जो लोग इस तरह की संस्थाओं की मदद करते हंै, ईश्वर उनकी मदद करते हैं।
    राज्यपाल ने कहा कि मैं अपने अनुभव से कहती हूं कि छत्तीसगढ़ एक ऐसा प्रदेश है, जहां के लोग सहज और सरल हैं। यहां के लोगों की वाणी की मिठास मन को बहुत भाती है। उन्होंने कहा कि राजभवन आने के बाद मेरी कोशिश है कि राजभवन से कोई निराश न लौटे। हर व्यक्ति के लिए राजभवन का दरबार सहजता से खुला रहता है। मेरी कोशिश होगी कि सबके मार्गदर्शन से छत्तीसगढ़ के निवासियों के सुख, शांति, समृद्धि के लिए कार्य कर सकूं।
    महापौर श्रीमती हेमा देशमुख ने अभिलाषा की रजत जयंती अवसर पर सबको बधाई एवं शुभकामनाएं दी और कहा कि यह संस्था हिम्मत से आगे बढ़ती चली गई है। 25 वर्ष का सफर गौरवशाली है। दिव्यांग बच्चे ईश्वर के रूप होते हंै। श्रीमती देशमुख ने संस्था को हर संभव सहयोग करने का आश्वासन भी दिया। लोकसभा सांसद श्री संतोष पाण्डेय ने कहा कि दृढ़ इच्छाशक्ति के सामने सभी बाधाएं बौनी हो जाती हैं। श्री पाण्डेय ने संस्था के लंबे सफल सफर के लिए संस्थापक प्रमुख श्री युसूफ की प्रशंसा भी की। उन्होंने कहा कि दिव्यांगता बाधक नहीं होती, जरूरत, हिम्मत और हौसले के साथ आगे बढने की होती है।
    राज्यपाल सुश्री उइके ने कार्यक्रम में अभिलाषा की 25 वर्ष की यात्रा पर केन्द्रित ब्रोशर का विमोचन किया। उन्होंने संस्था से निकलकर शासकीय सेवारत तथा खेल के क्षेत्र में विशिष्ट उपलब्धि हासिल करने वाले अनेक युवाओं का प्रतीक चिन्ह देकर सम्मान किया। कार्यक्रम में संस्था को आर्थिक और अन्य संसाधनों के रूप में सहयोग देने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं के प्रतिनिधियों का भी सम्मान किया गया।
    समारोह की अध्यक्षता राजनांदगांव नगर निगम की महापौर श्रीमती हेमा देशमुख ने की। समारोह में लोकसभा सांसद श्री संतोष पाण्डेय भी विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close